Friday, 2 December 2016

न जाने सालों बाद कैसा समां होगा,

न जाने सालों बाद कैसा समां होगा,
हम सब दोस्तों में से कौन कहा होगा,
फिर अगर मिलना होगा तो मिलेंगे ख्वाबों मे,
जैसे सूखे गुलाब मिलते है किताबों मे.

0 comments:

Post a Comment